Hindi Urdu

NEWS FLASH

रियाद में गांधी जयंती का जलवा, IFE ने क्या भव्य प्रोग्राम का आयोजन

21 नवंबर को गांधी जयंती के अवसर पर इंडियन फोरम फॉर एजुकेशन (IFE) के द्वारा रियाद सउदी अरब में एस्से और quiz कंपटीशन का आयोजन किया गया. प्रोग्राम की शुरुआत अरीबा दिलशाद द्वारा पवित्र ग्रंथ कुरआन मजीद की आयतों को पढ़कर के हुई. प्रोग्राम का संचालन डॉक्टर फैसल कमाल जैदी ने किया, जबकि मंच पर इंडियन फोरम फॉर एजुकेशन के संस्थापक डॉक्टर दिलशाद अहमद विशेष तौर पर मौजूद थे.

By: मोहम्मद अहमद

 

 

  • रियाद में गांधी जयंतीका जलवा, IFE ने क्या भव्य प्रोग्राम का आयोजन

 

नयी दिल्ली: 21 नवंबर को गांधी जयंती के अवसर पर इंडियन फोरम फॉर एजुकेशन (IFE) के द्वारा रियाद सउदी अरब में एस्से और quiz कंपटीशन का आयोजन किया गया. प्रोग्राम की शुरुआत अरीबा दिलशाद द्वारा पवित्र ग्रंथ कुरआन मजीद की आयतों को पढ़कर के हुई. प्रोग्राम का संचालन डॉक्टर फैसल कमाल जैदी ने किया, जबकि मंच पर इंडियन फोरम फॉर एजुकेशन के संस्थापक डॉक्टर दिलशाद अहमद विशेष तौर पर मौजूद थे.

 

 ife_1.jpg

 इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर  Hifzan अहमद हाशमी ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई जो भारत में शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए प्रयासरत हैं. डॉक्टर  Hifzan अहमद हाशमी ने अपने संबोधन में कहा कि महात्मा गांधी हमारे राष्ट्रपिता हैं, जो दुनिया के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं.

 

 ife.jpg

उन्होंने कहा कि गांधीजी एक ऐसा व्यक्तित्व का नाम है जो अहिंसा के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है. जिन्होंने अपने राष्ट्र के लोगों को हमेशा अहिंसा और सत्य के मार्ग पर चलने का आह्वान किया. इस अवसर पर फोरम के दूसरे सदस्य सलमान खालिद, शहजाद समदानी, (उपाध्यक्ष IFE) डॉक्टर फैसल कमाल जैदी, इंजीनियर फरहान हाशमी, शहजाद खान, वसी अहमद, एहसान सिद्दीकी, डॉक्टर नसीर, डॉक्टर जहांगीर और डॉक्टर अफजाल समेत काफी लोग उपस्थित थे.

 

 

 अतिथि के तौर पर मोहम्मद इमरान (प्रिंसिपल इंटरनेशनल इंडियन पब्लिक स्कूल) शबाना प्रवीण (प्रिंसिपल मॉडर्न मिडल ईस्ट इंटरनेशनल स्कूल), रहमतुल्लाह (प्रिंसिपल अलयास्मीन इंटरनेशनल स्कूल) भी उपस्थित थे.

 

 

 सभी मेहमानों ने गांधी जयंती के शुभ अवसर पर इंडियन फॉर्म फॉर एजुकेशन के द्वारा आयोजित किए गए Quiz और एस्से कंपटीशन के कामों की प्रशंसा करते हुए कहा कि जिस तरह से IFE शिक्षा के क्षेत्र में गरीबों की समस्याओं के समाधान के लिए पहले दिन से प्रयासरत है वह अत्यंत सराहनीय है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसकी प्रशंसा होनी चाहिए.

 

 

उन्होंने कोरोना के विरुद्ध जंग में शिक्षकों के साथ-साथ डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के कामों की भी प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि जिस तरह से संकट के समय में शिक्षक ऑनलाइन माध्यमों से शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए प्रयासरत हैं और उस दिशा में कोशिश कर रहे हैं उसी तरह से डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ अपनी जान की परवाह किए बिना मरीजों को ठीक करने के लिए भरसक प्रयास कर रहे हैं.

 

 

अतिथियों ने इस तरह के IFE का आभार प्रकट करते हुए कहा कि इस तरह के प्रोग्राम समय की मांग हैं और इससे शिक्षक और छात्र के बीच में समन्वय बनाने में बड़ा सहयोग मिलता है. इस अवसर पर इंडियन फोरम फॉर एजुकेशन के वरिष्ठ सदस्य सलमान खालिद ने गांधी जयंती के शुभ अवसर पर Quiz और Essay प्रोग्राम की अहमियत पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पूरे किंगडम से 613 छात्रों ने इस प्रोग्राम में हिस्सा लिया जो इस प्रोग्राम की मकबूलियत की सबसे बड़ी दलील है.

 

 

 उन्होंने कहा कि छात्रों के परफॉर्मेंस के अनुसार उन्हें उसके नंबर दिए गए और 613 में से कुल 6 लोगों को विजई घोषित किया गया. तीन लोग जूनियर श्रेणी में से थे जबकि तीन लोग सीनियर कैटेगरी से थे. उन्होंने बताया कि मिस हुदा हबीब Radhwa Int’l School, Yanbu दूसरा स्थान मिस्टर इब्राहिम सलमान खान IIPS रियाद और तीसरा स्थान मोहम्मद सज्जाद आईआईएस तबूक ने प्राप्त किया.

 

 

 जबकि जूनियर श्रेणी में पहला स्थान आफरीन बरषानी Alyasmin Int’l School, Riyadh, दूसरा स्थान Ms. Amarah Shiraz from IIS, Jeddah, third prize to Ms.  Fariha Fatima from Modern Middle east Int’l School, Riyadh. ने प्राप्त किया.

 

 

 इंजीनियर फरहान हाशमी ने अपने क्लोजिंग रिमार्क में कहा कि मैं अपने सभी मेहमानों अतिथियों और फोरम के सभी सदस्यों का इस कामयाब प्रोग्राम के लिए आभार प्रकट करता हूं और उन सभी छात्रों का आभारी हूं जिन्होंने इस प्रतियोगिता में भाग लिया और कामयाब हुए और जिन्होंने कामयाबी हासिल नहीं की उनके लिए भविष्य में कामयाबी की प्रार्थना करता हूं. इस कार्यक्रम में महिलाओं और बच्चों सहित 30 प्रतिभागियों ने भाग लिया.

यदि आपको यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो आप इसे आगे शेयर करें। हमारी पत्रकारिता को आपके सहयोग की जरूरत है, ताकि हम बिना रुके बिना थके, बिना झुके संवैधानिक मूल्यों को आप तक पहुंचाते रहें।

Support Watan Samachar

100 300 500 2100 Donate now

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

Poll

Should the visiting hours be shifted from the existing 10:00 am - 11:00 am to 3:00 pm - 4:00 pm on all working days?

SUBSCRIBE LATEST NEWS VIA EMAIL

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.

Never miss a post

Enter your email address to subscribe and receive notifications of latest News by email.